मीरा भजन ( Meera bhajan lyrics in hindi )

You are currently viewing मीरा भजन ( Meera bhajan lyrics in hindi )

Meera Bai Songs Lyrics

Shyam Teri Bansi Pukare Radha Naam Log Kare Meera Ko

श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम
लोग करें मीरा को यूँ ही बदनाम

साँवरे की बंसी को बजने से काम
राधा का भी श्याम वोतो मीरा का भी श्याम


जमुना की लहरें बंसीबट की छैयां
किसका नहीं है कहो कृष्ण कन्हैया
श्याम का दीवाना तो सारा बृज धाम
लोग करें मीरा को…

श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम…

कौन जाने बाँसुरिया किसको बुलाए
जिसके मन भाए वो उसी के गुण गाए
कौन नहीं बंसी की धुन का गुलाम
लोग करें मीरा को…

श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम…

श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम
लोग करें मीरा को यूँ ही बदनाम

श्याम बंसी ना बुल्लां उत्ते रख अड़ेया ।
तेरी बंसी पवाडे पाए लख अड़ेया ।



बंसी तेरी विच भरेआ ए जादू,
साडा दिल नहिओ रेहेंदा काबू ।
भैडे लोकीं करंगे शक्क अड़ेया,
तेरी बंसी पवाडे पाए लख अड़ेया ॥

श्याम बंसी ना बुल्लां उत्ते रख अड़ेया….


सानु भूल गया कम संसार दा,
दिल प्यासा मेरा श्याम तेरे प्यार दा ।
साडी लड़ गयी ए तेरे नाल अक्ख अड़ेया,
तेरी बंसी पवाडे पाए लख अड़ेया ॥

श्याम बंसी ना बुल्लां उत्ते रख अड़ेया….

श्याम बंसी विच तेरी जिन्द जान वे,
ताहिओ भुल्दी ना इसदी पहचान वे ।
तेरी बंसी ने घरो किता वक्ख अड़ेया,
तेरी बंसी पवाडे पाए लख अड़ेया ॥

श्याम बंसी ना बुल्लां उत्ते रख अड़ेया….

बंसी तेरी विच प्यार दा सन्देश वे,
गोपिया दे दिला उते भरदी आवेश वे ।
पल्ले छोड़ा ना बंसी ने कख अड़ेया,

श्याम बंसी ना बुल्लां उत्ते रख अड़ेया….

श्याम बंसी ना बुल्लां उत्ते रख अड़ेया ।
तेरी बंसी पवाडे पाए लख अड़ेया ।

meera hindi lyrics

करम की गति न्यारी न्यारी, संतो।

बड़े बड़े नयन दिए मिरगन को,
बन बन फिरत उधारी॥

उज्वल वरन दीन्ही बगलन को,
कोयल लार दीन्ही कारी॥

औरन दीपन जल निर्मल किन्ही,
समुंदर कर दीन्ही खारी॥

मूर्ख को तुम राज दीयत हो,
पंडित फिरत भिखारी॥

मीरा के प्रभु गिरिधर नागुण
राजा जी को कौन बिचारी॥


Meera Bai bhajan Lyrics

तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से आयी हूँ ।
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की जाई हूँ ॥

अरे रसिया, ओ मन वासिय, मैं इतनी दूर से आयी हूँ ॥

सुना है श्याम मनमोहन, के माखन खूब चुराते हो ।
तुम्हे माखन खिलने को मैं मटकी साथ लायी हूँ ॥
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से आयी हूँ….

सुना है श्याम मनमोहन, के गौएँ खूब चरते हो ।
तेरे गौएँ चराने को मैं ग्वाले साथ लायी हूँ ॥
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से आयी हूँ….

सुना है श्याम मनमोहन, के कृपा खूब करते हो ।
तेरे गौएँ चराने को मैं ग्वाले साथ लायी हूँ ॥
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से आयी हूँ….

सुना है श्याम मनमोहन, के कृपा खूब करते हो ।
तेरी किरपा मैं पाने को तेरे दरबार आई हूँ॥
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से आयी हूँ….

Meera Bai bhajan hindi text

हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने

हम श्याम नाम की दीवानी
प्रेम के बंधन क्या जाने

हम ब्रज की भोरी ग्वारिणिया
ब्रह्म ज्ञान की उलझन क्या जाने

ये तो प्रेम की बात है उधाओ
कोई क्या समझे कोई क्या जाने

मेरे और मोहन की बाते
एक वो जाने या मैं जानू

ज़िंदगी की शाम आई
श्याम पर आए नही

ज़िंदगी की शाम आई
श्याम पर आए नही

श्याम बिन बैचाईन मान ये
चैन ना पाए कही

मेरे श्याम मेरे श्याम
ओ मेरे श्याम मेरे श्याम
ओ ज़िंदगी की शाम आई
श्याम पर आए नही

श्याम मेरी ज़िंदगी के आप ही आधार हो
डूबती नैया के मोहन आप ही पतवार हो
नाव मेरी मझधार में डूब ना जाए कही

ज़िंदगी की शाम आई
श्याम पर आए नही

मेरे श्याम मेरे श्याम
ओ मेरे श्याम मेरे श्याम
मेरे श्याम मेरे श्याम

सदियो से तेरा हू दीवाना
हो ये जानम जानम का फेरा है
एक तेरी सावरी सूरत ने
ये दिल दीवाना घेरा है

नंद लाल तेरे दीदार बिना
इश्स दिल में हुआ अंधेरा है
इश्स दिल में हुआ अंधेरा है

एक बार तो तू कह दे मुझसे
तू मेरा है तू मेरा है तू मेरा है
तू मेरा है तू मेरा है तू मेरा है

मेरे श्याम मेरे श्याम
ओ मेरे श्याम मेरे श्याम
मेरे श्याम मेरे श्याम

रटते रटते श्याम श्याम
हो गया दीवाना मैं
भूल कर सब कुच्छ
बस आप को ही पाना है

आजओ जल्दी मेरे श्याम
आजओ फूल जीवन का
मुरझा जाए ना कही

ज़िंदगी की शाम आई
श्याम पर आए नही

मेरे श्याम मेरे श्याम
ओ मेरे श्याम मेरे श्याम
मेरे श्याम मेरे श्याम

झूमती थी गोपिया मुरली की जिस तां
हो गये काई भक्त सौदाई
तेरी एक मुस्कान पेर
देखे बिन तुमको आए मोहन
अब रहा जाए नही

ज़िंदगी की शाम आई
श्याम पर आए नही

मेरे माँगने पेर आपने
मुझे कुच्छ दे दिया सरकार
तो मैं आपका आशिक़
नही मजदूर काहलौंगा

सूख गया आँखो का पानी
तेरी याद में रोते रोते

भूलु नही तेरी याद सखी
सपने में सोते सोते

टूटे नही मेरे प्रेम की माला
ये माला पोते पोते
हे नंद लाल तुझे मैं मिल ना सका
हे नंदलाल मैं मिल ना सका
ये जीवन खोते खोते

मेरे श्याम मेरे श्याम
ओ मेरे श्याम मेरे श्याम
मेरे श्याम मेरे श्याम

दरश दो गिरधारी बाँवरी
श्याम मेरी बीती उमारिया सारी
श्याम मेरी बीती उमारिया सारी
दरश दो गिरधारी बाँवरी

गिरधारी मेरो गिरधारी मेरो गिरधारी
बाँवरी मेरो बाँवरी मेरो बाँवरी

मेरे श्याम मेरे श्याम
ओ मेरे श्याम मेरे श्याम
मेरे श्याम मेरे श्याम

तुम्हे गाओ के भोले ग्वालो की
च्चल हीन मधुर बतो की कसम
ब्रज की उन्न सरल रमनियो की
चंदा तारो रातो की कसम

मुरली की कसक भारी तानो की
कुंजन कुंजन घाटो की कसम
यमुना के गोकुल ग्वाले से
प्रतक प्रतक नाटो की कसम

मेरे श्याम मेरे श्याम
ओ मेरे श्याम मेरे श्याम
मेरे श्याम मेरे श्याम

दरश दो गिरधारी बाँवरी
श्याम मेरी बीती उमारिया सारी
श्याम मेरी बीती उमारिया सारी
दरश दो गिरधारी बाँवरी

meera bhajan lyrics ( pritam bolo kab aaoge )

प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
साजन बोलो कब आओगे॥

कब मन वीणा की झंकारों पर॥,
कोई अमर गीत बन छाओगे ॥,
प्रीतम बोलो कब आओगे ॥,
मोहन बोलो कब आओगे ॥,

बिना बोले इस दासी को ॥
हरि चरनन सो लिपटाओगे॥
प्रीतम बोलो कब आओगे॥,

मोहन बोलो कब आओगे॥,

यह प्यार भरा दिल रोता है॥,
थर्राते लम्बे साँसों में,
अंसुअन के माल पिरोता है,
अंधियारी सूनी कुंजो में,
रातों भर बाटें जोहता है,
हँसते, इठलाते , प्यार भरे,
प्रीतम बोलो कब आओगे,
मोहन बोलो कब आओगे ।
सुनी सुनी रातों में हम तुम्हें पुकारा करते हैं
प्रीतम बोलो कब आओगे,
मोहन बोलो कब आओगे ।

सब प्यार जगत का झूठा है,
कुछ मान भाग्य पर था अपने,
पर वो भी जैसे फूटा है ।
ओ बिगड़ी बनाने वाले श्याम,
क्या तू भी मुझसे रूठा है,
सब दूर करो झंझट मेरे,
प्रीतम बोलो कब आओगे ।
मोहन बोलो कब आओगे ।

जोगन आँचल फैला निकली,
जग लाज के बंधन तोड़ चली,
कुल तान की आन मिटा निकली,
सारे श्रृंगार बिखेर दिए,
एक भगवा भेष बना निकली,
मैं तेरी मोहन तेरी हूँ
मैं तेरी प्यारे तेरी हूँ
मैं जैसी हूँ अब तेरी हूँ
मैं तेरी मोहन तेरी हूँ
प्रीतम बोलो कब आओगे ।
मोहन बोलो कब आओगे

ये भुजा उठा कर गा निकली,
न जाने मोहन कहाँ छिपे
मैं दर दर अलख जगा निकली
अब बैठ गयी पथ में थक कर,
प्रीतम बोलो कब आओगे ।

क्यों नहीं आते मेरे मन मंदिर में
तुम प्रेम की ज्योत जगाने
क्यों नहीं आते मेरे ह्रदय कुञ्ज में
चोरी से छिप जाने  
क्यों नहीं आते मेरे मन मधुबन में
तुम सुन्दर तान सुनाने
क्यों नहीं आते मेरे अंगना
लूट लूट दधि खाने
मीरा के गिरधर लाल सही
राधा मुख चाँद चकोर सही
गोपिन के मदन गोपाल सही
नरसीं के सांवल सेठ सही
यशोदा मैया के लाल सही
तुम सूरदास के श्याम सही
तुलसी के राम कृपाल सही
जब सारा आलम सोता है
हम चुपके चुपके रोते हैं
रो रो कर अपने प्यारे के
कोमल चरणों को धोते हैं
कभी पलकों में आकर आशुँ
अखियों के झरोखों में छिप कर
अपने प्यारे की आने की
मेरे प्यारे
कान्हा रे -॥॥
प्रीतम बोलो कब आओगे

=

हरी मेरे जीवन प्राण आधार

और आसरो नहीं तुम बिन
तीनो लोक मझार

आप बिना मोहे कछु ना सुहावे
निरख्यो सब संसार

मीरा कहे मई दासी रावरी
दीजो मति बिसार

5 baras ki meera ladli lyrics

पांच बरस की मीरा रे लाड़ली ,सखियों के संग जाए खेलन ,सुन ओ साधो भाई ,
खेल रही मीरा पाया कांगन, राणा कांगन देवता ,
काले काले नाग राणा मूँदता ,काले काले नाग राणा पिटारी डालता ,
नाग दिए जो मीरा के हाथ, दिए जो बैरागन के हाथ ,
खोल अखियां मीरा देखती ,देखती काली रात के नाग ,
मीरा जपने लगी हरी का नाम ,मीरा जापे अपने ठाकुर का नाम ,
दो विश के प्याले राणा घोलता ,२ दीये मीरा जी के हाथ ,दीये जो बैरागन के हाथ ,
हरी का जप करते मीरा पी गयी ,पी गयी २ २ बाट ,
ऊपर कोठी चढ़ चढ़ राणा देखता ,देखता मीरा मरी के ना ,देखता बैरागन मरी के ना ,
घुंघरू बांधे मीरा नाचती ,गावे २६०० राग ,मुख बाजवे बांसुरी ,लेती हरी का नाम ,लेती मुरलीधर का नाम